Aspirational Bharat sees 120% spike in work productivity on smartphones during COVID-19: TECNO-CMR MICI Survey

Consumers in Aspirational Bharat are seeing a >50% spike on smartphone usage during lockdown, including 120% on productivity.

 

  • Beyond work, consumers spent increased time on their phone for consuming content, including video OTT (70%) and audio OTT (60%), and gaming (62%).
  • Fast-depleting Battery life and limited screen size were the biggest challenges that consumers faced with their smartphones.


New Delhi/Gurugram,12August 2020: A new Mobile Industry Consumer Insights (MICI) Survey, conducted by CyberMedia Research (CMR) in association with TECNO Mobile, has for the first time provided a comprehensive understanding of changing consumer behaviour and smartphone usage patterns in Aspirational Bharat. The CMR MICI survey revealed that consumers of Aspirational Bharat saw a 120% spike in smartphone usage for productivity compared to pre-COVID levels.

 

According to Prabhu Ram, Head- Industry Intelligence Group (IIG), CMR, “The smartphone is a key daily driver for consumers living in cities and towns beyond Tier I. We call this the Aspirational Bharat. What the survey highlights is how smartphone usage is changing, during lockdown and in the neo-normal, cutting across use cases, such as productivity, personal development, and leisure. In preparation for the neo normal, consumers in Aspirational Bharat are seeking smartphones that offer larger screen size and much better battery life.”

Echoing the sentiment from TECNO’s perspective, Mr. Arijeet Talapatra, CEO, TRANSSION India said, “As a leading smartphone company commanding substantial presence and market share in the Aspirational Bharat’, we have iterated the growing importance of telecommuting and productivity usage of smartphone in the wake of COVID-19. In Aspirational Bharat, where affordability and utility go hand in hand, smartphones have emerged as a primary medium of work, information and entertainment. The CMR MICI Survey reinforces the fact that TECNO has the sense of the pulse of its aspirational consumers. And with our SPARK series, which focuses on battery, display, and camera in sub-10K smartphone category is a testimony to TECNO’s deep commitment of introducing products with segment-first features at a disruptive price point where the consumer is more ready to experiment with the product. We are optimistic that our latest launches Spark 6 Air smartphone and TWS Minipod M1 will be well-received by the audience and enable our consumers to find a work-leisure balance in this Neo Normal.”


(A) COVID-19 and Impact on Smartphone Usage in Aspirational Bharat during lockdown

  • During COVID-19 Lockdown (March 25 - May 31), smartphone usage spiked by 50%, with smartphone usage for work surging by >100%.
  • Smartphone users in Aspirational Bharat depend on their smartphone to empower their professional and personal life.
    • 84% of consumers depend on their smartphones, for instance, for accessing information on government schemes, weather patterns, and market linkage information for farm produce.
    • 83% of consumers use their phones for content consumption including creating and consuming short-form videos, music and videos.
    • 83% feel empowered, using their smartphones for online banking, shopping, and utility bill payment, among others.
  • Beyond work, consumers spent increased time on their phone for consuming content, including video OTT (70%) and audio OTT (60%), and gaming (62%).
  • Around three in every seven users in Aspirational Bharat have started some new activities and hobbies during the period of lockdown. For instance, 21% of the consumers have learnt new skills, 19% have listened to music, while 18% have taken up new hobbies on their phones.
  • One in every three parents depend on their smartphone for facilitating their kid’s online education during lockdown.

(B) Smartphone Usage in the Neo Normal (June onwards)

  • Two in every seven users (29%) have faced some challenge while working from home.  One in every seven users (15%) faced difficulty in managing work-life-balance as well as productivity issue.
  • The top three smartphone features that consumers have started relying more in the neo normal are Camera (61%), battery life (57%) and sound quality (51%).
  • Some consumers faced problems with their smartphones –  phone overheating (58%), limited screen size (47%) and swift battery drainage (46%) were the top three challenges.
  • When it comes to their next smartphone purchase, consumers are looking for smartphones that offer long battery life (54%) and large screen size (53%) for viewing to cope with neo normal.

     

    ***

    About CMR – TECNO Mobile MICI Survey

     

    The Mobile Industry Consumer Insights (MICI) Survey by CyberMedia Research (CMR), in association with TECNO Mobile, is the first-ever, comprehensive study of changing consumer behavior on smartphones in Tier-I, Tier-II and Tier-III cities and towns of India, across three phases: pre-COVID-19, during pandemic, and neo-normal.

     

    The CMR Mobile Industry Consumer Insights (MICI) Survey covered 1052 respondents cutting across ten study locations, including, New Delhi, Mumbai, Kolkata, Bengaluru, Ludhiana, Lucknow, Surat, Indore, Guwahati and Sonipat. The study covered consumers in the age groups of 20 to 35, and socio-economic levels of SEC B & SEC C, having a affordable smartphone in the price range of INR 6000 – 10000.

    For results based on a randomly chosen sample of this size, there is 95% confidence that the results have a statistical precision of plus or minus 3% of what they would be if the entire population had been surveyed.

     

    – ENDS –

     

    About CyberMedia Research and Services Ltd

     

    CMR offers industry intelligence, consulting and marketing services, including but not limited to market tracking, market sizing, stakeholder satisfaction, analytics and opportunity assessment studies.

    A part of CyberMedia, South Asia’s largest specialty media and media services group, CyberMedia Research (CMR) has been a front-runner in market research, consulting and advisory services since 1986. CMR is an institutional member of Market Research Society of India (MRSI).

     

    For queries, please contact asharma@cmrindia.com 

 

 

कोविड-19 महामारी के दौरान एसपिरेशनल भारत ने स्मार्टफोन्स पर कार्य उत्पादकता में 120 फीसदी बढ़ोतरी दर्ज की

 -टेक्‍नो -सीएमआर एमआईसीआई के सर्वे का खुलासा 

  • एसपिरेशनल भारत में उपभोक्ताओं में लॉकडाउन के दौरान स्मार्टफोन उपयोग में 50फीसदी की बढ़ोतरी दिख रही है, जबकि उनकी कुल उत्पादकता 120 फीसदी बढ़ी है।
  • काम के अलावा, उपभोक्ताओं ने अपने फोन पर वीडियो ओटीटी (70 फीसदी) और ऑडियो ओटीटी (60 फीसदी), और गेमिंग (62 फीसदी) जैसे कंटेंट का आनंद उठाने में फुरसत के बढ़े हुए समय  को बिताया।
  • तेजी से घटता बैटरी का लेवल और  स्क्रीन  का सीमित आकार सबसे बड़ी चुनौतियां थीं, जिनका उपभोक्ताओं को अपने स्मार्टफोन के साथ सामना करना पड़ा।नई दिल्ली / गुरुग्राम, 12 अगस्त 2020।( gg साइबर मीडिया रिसर्च (सीएमआर) द्वारा टेक्‍नो मोबाइल के साथ मिलकर कराए गए एक नए मोबाइल इंडस्ट्री कंज्यूमर इनसाइट्स (एमआईसीआई) सर्वे, ने पहली बार एसपिरेशनल भारत में बदलते उपभोक्ता व्यवहार और स्मार्टफोन के उपयोग के पैटर्न की व्यापक समझ प्रदान की है। सीएमआर एमआईसीआई सर्वेक्षण में पता चला कि एसपिरेशनल भारत के उपभोक्ताओं ने कोविड से पहले के स्तरों की तुलना में उत्पादकता के लिए स्मार्टफोन उपयोग में 120 फीसदी की बढ़ोतरी देखी।

    इंडस्ट्री इंटेलिजेंस ग्रुप (आईआईजी), सीएमआर, के हेड प्रभु राम के अनुसार, “स्मार्टफोन टियर- I से परे शहरों और कस्बों में रहने वाले उपभोक्ताओं के लिए एक प्रमुख दैनिक प्रेरक है। हम इसे एसपिरेशनल भारत कहते हैं। सर्वेक्षण पर इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि लॉकडाउन के दौरान और नव-सामान्य (न्यू-नॉर्मल) में, उत्पादकता, व्यक्तिगत विकास, और काम के बीच के समय में उपयोग के संदर्भ में स्मार्टफोन का उपयोग कैसे बदल रहा है। नव सामान्य की तैयारी में, एसपिरेशनल भारत में उपभोक्ता बड़े स्क्रीन आकार और बेहतर बैटरी जीवन प्रदान करने वाले स्मार्टफोन की मांग कर रहे हैं। ”

     

    इस भावना को टेक्‍नो के नजरिये से समझते हुए ट्रांसिऑन इंडिया के सीईओ श्री अरिजीत तालापात्रा ने कहा, “एक प्रमुख स्मार्टफोन कंपनी के रूप में एसपिरेशनल भारत में पर्याप्त उपस्थिति और बाजार हिस्सेदारी की कमान संभालते हुए, हम कोविड-19 के मद्देनजर स्मार्टफोन के दूरसंचार और उत्पादकता में उपयोग के बढ़ते महत्व को पहले दुहरा चुके हैं। एसपिरेशनल भारत में, जहां क्रय करने की आर्थिक सामर्थ्य और उपयोगिता दोनों को बराबर महत्व मिलता है, स्मार्टफोन कार्य, सूचना और मनोरंजन के प्राथमिक माध्यम के रूप में उभरा है। सीएमआर एमआईसीआई सर्वेक्षण इस तथ्य को पुष्ट करता है कि टेक्‍नो को अपने एसपिरेशनल उपभोक्ताओं की नब्ज की समझ है। और हमारी स्पार्क सीरीज़, दस हजार रुपये से कम वाली स्मार्टफोन श्रेणी में बैटरी, डिस्प्ले और कैमरा पर ध्यान देती है। यह इस मूल्य पर सेगमेंट में पहली बार ऐसे फीचर को शामिल करने की टेक्‍नो की प्रतिबद्धता का प्रमाण भी है जहां उपभोक्ता प्रोडक्ट के साथ प्रयोग करने के लिए ज्यादा तैयार हैं। हम आशावादी हैं कि हमारे नवीनतम लॉन्च किए गए स्पार्क 6 एयर स्मार्टफोन और टीडब्ल्यूएस मिनीपॉड एम 1 ग्राहकों को पसंद आएंगे और हमारे उपभोक्ताओं को इस ‘न्यू-नॉर्मल’ दौर में काम और अवकाश के बीच संतुलन खोजने में सक्षम करेंगे।”

     

  • कोविड-19 और लॉकडाउन के दौरान एसपिरेशनल भारत में स्मार्टफोन के उपयोग पर पड़ने वाला प्रभाव
  • कोविड-19 लॉकडाउन (25 मार्च - 31 मई) के दौरान, स्मार्टफोन का उपयोग 50 फीसदी तक बढ़ गया, जिसमें काम के लिए स्मार्टफोन के उपयोग में 100 फीसदी से ज्यादा वृद्धि शामिल है।
  • एसपिरेशनल भारत में स्मार्टफोन उपयोगकर्ता अपने प्रोफेशनल और व्यक्तिगत जीवन को सशक्त बनाने के लिए अपने स्मार्टफोन पर निर्भर करते हैं
    • 84 फीसदी उपभोक्ता अपने स्मार्टफ़ोन पर निर्भर हैं, मसलन, सरकारी योजनाओं, मौसम के मिज़ाज और कृषि उपज की बाज़ार से जुड़ी जानकारी तक पहुंचने के लिए।
    • 83 फीसदी उपभोक्ता अपने फोन का उपयोग कम अवधि वाले वीडियो, संगीत इत्यादि बनाने और उपभोग करने सहित कंटेंट की खपत के लिए करते हैं।
    • 83 फीसदी लोग ऑनलाइन बैंकिंग, शॉपिंग और यूटिलिटी बिल भुगतान के लिए अपने स्मार्टफोन का उपयोग करते हुए सशक्त महसूस करते हैं।
  • काम के अलावा, उपभोक्ताओं ने अपने फोन पर वीडियो ओटीटी (70 फीसदी) और ऑडियो ओटीटी (60 फीसदी), और गेमिंग (62 फीसदी) सहित उपभोग में अपना बढ़ा हुआ समय बिताया।
  • एसपिरेशनल भारत में हर सात उपयोगकर्ताओं में से तीन ने लॉकडाउन की अवधि के दौरान कुछ नई गतिविधियां और शौक शुरू किए हैं। उदाहरण के लिए, 21 फीसदी उपभोक्ताओं ने नए कौशल सीखे हैं, 19फीसदी ने संगीत सुना है, जबकि 18 फीसदी ने अपने फोन पर नए शौक अपनाए हैं।
  • प्रत्येक तीन माता-पिता में से एक लॉकडाउन के दौरान अपने बच्चे की ऑनलाइन शिक्षा की सुविधा के लिए अपने स्मार्टफोन पर निर्भर करता है।
  •  

  • न्यू नॉर्मल (जून के बाद) में स्मार्टफोन का उपयोग
  • हर सात उपयोगकर्ताओं में से दो (29 फीसदी) को घर से काम करते समय कुछ चुनौती का सामना करना पड़ा है। प्रत्येक सात उपयोगकर्ताओं में से एक (15 फीसदी)  को कार्य-जीवन-संतुलन और उत्पादकता के मुद्दे के प्रबंधन में कठिनाई का सामना करना पड़ा।
  • स्मार्टफोन के तीन शीर्ष फीचर्स जिन पर उपभोक्ताओं ने न्यू नॉर्मल में अधिक भरोसा करना शुरू कर दिया है, वे हैं कैमरा (61 फीसदी), बैटरी जीवन (57 फीसदी) और ध्वनि की गुणवत्ता (51  फीसदी)।
  • कुछ उपभोक्ताओं को अपने स्मार्टफ़ोन के साथ समस्याओं का सामना करना पड़ा - फोन ओवरहीटिंग (58 फीसदी), सीमित स्क्रीन आकार (47 फीसदी) और बैटरी का जल्दी खर्च हो जाना (46फीसदी) शीर्ष तीन चुनौतियां थीं।
  • जब अगले स्मार्टफोन खरीद की बात आती है, तो उपभोक्ता उन स्मार्टफोन की तलाश में रहते हैं जो न्यू नॉर्मल से निपटने के लिए लंबी बैटरी लाइफ (54 फीसदी) और बड़े स्क्रीन आकार (53 फीसदी) का ऑफर करते हैं।

    सीएमआर के बारे में - टेक्‍नो मोबाइल एमआईसीआई सर्वेक्षण

     

    टेक्‍नो मोबाइल के सहयोग से साइबरमीडिया रिसर्च (सीएमआर) द्वारा मोबाइल इंडस्ट्री कंज्यूमर इनसाइट्स (एमआईसीआई) सर्वेक्षण, टीयर- I, टियर- II और टियर- III शहरों  और भारत के कस्बों में कोविड-19 से पहले, महामारी के दौरान और निओ-नार्मल में, इन तीन चरणों के समय स्मार्टफ़ोन के बारे में उपभोक्ता के बदलते व्यवहार का पहला व्यापक अध्ययन है।

     

    सीएमआर मोबाइल इंडस्ट्री कंज्यूमर इनसाइट्स (एमआईसीआई) सर्वे में नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, लुधियाना, लखनऊ, सूरत, इंदौर, गुवाहाटी और सोनीपत सहित अध्ययन की दस जगहों के 1052 उत्तरदाताओं को कवर किया गया। इस अध्ययन में 20 से 35 आयु वर्ग के उपभोक्ताओं और सेक्शन बी व सी के  सामाजिक-आर्थिक स्तर,  6000 - 10000  रुपये वर्ग में सस्ते स्मार्टफोन की चाहत करने वाले लोगों को शामिल किया गया था।

     

    इस आकार के रैंडम चुने गए नमूने के आधार पर प्राप्त नतीजों को लेकर हमें 95 फीसदी विश्वास है कि इन नतीजों में प्लस या माइनस 3 फीसदी की सांख्यिकीय सटीकता है। ये उन नतीजों की पूरी तस्वीर पेश करते हैं, अगर  पूरी आबादी का सर्वेक्षण किया गया होता।

     

    समाप्ति

     

     

    साइबरमीडिया रिसर्च एवं सेवाएं लिमिटेड

     

    सीएमआर उद्योग की बुद्धिमत्ता, परामर्श और विपणन सेवाएं प्रदान करता है, जिसमें बाजार की ट्रैकिंग, बाजार का आकार, हितधारक संतुष्टि, विश्लेषण और अवसर मूल्यांकन अध्ययन शामिल हैं, लेकिन यह बस इन तक ही सीमित नहीं है।

     

    दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी विशेषज्ञ मीडिया और मीडिया सेवा समूह साइबर मीडिया का एक हिस्सा, साइबरमीडिया रिसर्च (सीएमआर) 1986 से बाजार अनुसंधान, परामर्श और सलाहकार सेवाओं में अग्रणी रहा है। सीएमआर मार्केट रिसर्च सोसायटी ऑफ इंडिया (एमआरएसआई) का एक संस्थागत सदस्य है। ।

     

    सवाल पूछने के लिए कृपया संपर्क करें  asharma@cmrindia.com